बाइबल-में-धन

Top 11 Things Bible says about Money in Hindi | बाइबल में धन के विषय में शिक्षा

Spread the Gospel

बाइबल में धन के विषय में बताता है कि धन परमेश्वर का हैं. धन यहोवा परमेश्वर की आशीष ही से मिलता है, और वह उसके साथ दुःख नहीं मिलाता. hindi bible study online में आज हम यही सीखने जा रहे हैं

में धन पैसे कैसे इस्तेमाल करें, बाइबल में दौलत, बाइबल में धन की शिक्षा, बाइबल में पैसे की शिक्षा, बाइबिल में धन, बाइबिल में पैसा, बाइबिल स्टडी पैसे पर
Image by Free stock photos from www.rupixen.com from Pixabay बाइबल-में-धन

क्या पैसा सारी बुराई की जड़ है

उत्तर है नहीं क्योंकि धन नहीं वरन धन का लोभ. बाइबिल कहती है धन का लोभ सारी बुराई की जड़ है. (1 तीमुथियुस 6:10) जब हम धन को परमेश्वर मान लेते हैं तो यह परमेश्वर को नहीं भाता.

परमेश्वर का वचन कहता है पृथ्वी और जो कुछ उसमें है, यहोवा ही का है. यदि संसार को देखें तो लगता है पैसा नहीं बल्कि गरीबी सारी बुराई की जड़ है.

क्योंकि गरीबी हर पाप करवाती है, एक भूखा व्यक्ति या गरीब व्यक्ति बुराइयों में फंस जाता है.

मसीह व्यक्ति को धन उधार नहीं लेना चाहिए | Bible study in Hindi

बाइबिल बताती है प्रेम को छोड़ और किसी बात में किसी के कर्जदार न हों. (रोमियो 13:8) क्योंकि उधार लेना या कर्ज लेना एक शाप भी है. (व्यवस्था 28:12)

एक विश्वासी उधार दे सकता है मतलब किसी को जरूरत हो तो उसे वह उधार पैसे दे सकता है लेकिन वह भी ब्याज में नहीं बल्कि उसकी सहायता के लिए. (निर्गमन 20:25)

उधार लेने वाला देने वाले का दास होता है (नीतिवचन 22:7) और हम केवल प्रभु परमेश्वर के दास हैं न कि किसी व्यक्ति के.

धन के विषय में सही दृष्टिकोण

एक मसीही विश्वासी व्यक्ति को धन या पैसे को कभी परमेश्वर का दर्जा नहीं देना चाहिए. उसे धन की पूजा या आराधना नहीं करना चाहिए. क्योंकि धन परमेश्वर नहीं है बल्कि धन गुलाम है.

उसके पैर नहीं पड़ना चाहिए. और अपने बच्चों को भी यही सिखाना चाहिए. एक उदाहरण से देखें. अभी कुछ वर्षों पहले सन 2016 में 1000 के और पुराने 500 के नोट चलना बंद हो गए थे.

लेकिन कुछ लोगों के नोट बदल नहीं पाए किसी भी कारण से और उन्हें कई दिनों बाद वे नोट उनके आलमारी या किसी कोट की जेब मिले…तो उन नोटों की कीमत कुछ भी नहीं रह गई. क्यों उसे लोग अब एक कागज का टुकड़ा मान कर फेंक दिए उसे अपने माथे से नहीं लगाते…

कारण यह है सरकार ने उनकी मान्यता समाप्त कर दी. धन केवल हमारे जीवन में वस्तुओं को लेने खरीदने का एक माध्यम मात्र है. और कुछ नहीं. इसकी बहुतायत से किसी का जीवन नहीं होता.

तो क्या धन को बचाना नहीं चाहिए

बाइबल के अनुसार धन को सेव करना चाहिए एक भला व्यक्ति अपने नाती पोतों के लिए धन सम्पत्ति छोड़ जाता है (नीतिवचन 13:22) किसी ने बहुत खूब कहा है, आपके सिर में चांदी तभी अच्छी लगती है जब जेब में सोना हो.

बचत करना बाइबल का नियम है.

पुराने नियम में युसूफ ने मिश्र देश में यह नियम निकाला कि जब 7 वर्षों तक बहुतायत से खेती बारी होगी और अच्छी फसल होगी तो सभी लोग खूब बचत करना ताकि आने वाले समय में जब 7 साल अकाल के होंगे तो हमारे पास कुछ होगा. और उसके नियम के अनुसार ही वो देश सबसे अमीर देश बन गया.

धन का सही रखरखाव करना चाहिए

हम तोड़े का दृष्टांत में देखते हैं कि स्वामी ने तीनों दासों को उनकी योग्यता के अनुसार दिया और कहा इस तोड़े से जाकर लेन देन करना एक तोड़े का अर्थ था 20 किलो चांदी अर्थात एक बड़ी रकम थी….परमेश्वर चाहते हैं हम भी धन का सही से रखरखाव करें..

अपने धन में परमेश्वर को प्रथम स्थान दें

सारे दशवांश भण्डार में ले आओ कि मेरे भवन में भोजनवस्तु रहे, और सेनाओं का यहोवा यह कहता है, कि ऐसा कर के मुझे परखो कि मैं आकाश के झरोखे तुम्हारे लिए खोल कर तुम्हारे ऊपर अपरम्पार आशीष की वर्षा करता हूँ कि नहीं. धन से परमेश्वर की राज्य की बढ़ोत्तरी करना चाहिए (मलाकी 3:10) 

धन से अपने लिए संसार में मित्र बनाना चाहिए

लूका 16:9 कहता है अधर्म के धन से मित्र बना लो… इसका मतलब है यह धन जो सांसारिक है अधर्म का है और नाशवान है इसे इस्तेमाल करके लोगो को स्वर्ग के लिए जीत लो. सुसमाचार के लिए धन को खर्च करो.

धन का दिखावा न करें

धन चंचल होता है यह कल किसी और के पास था और आने वाले कल किसी और के पास होगा इसलिए इसका घमंड नहीं करना चाहिए.

जो परमेश्वर का है वो परमेश्वर को देना चाहिए

प्रभु यीशु ने कहा, जो राजा केसर का है वो कैसर को दो और जो परमेश्वर का है वो परमेश्वर को दो. हमें हमारा कर (टेक्स) पूरा चुकाना चाहिए और परमेश्वर के राज्य के लिए भी देना चाहिए.

में धन पैसे कैसे इस्तेमाल करें, बाइबल में दौलत, बाइबल में धन की शिक्षा, बाइबल में पैसे की शिक्षा, बाइबिल में धन, बाइबिल में पैसा, बाइबिल स्टडी पैसे पर
www.freebibleimages.org बाइबल-में-धन

धन की आशीष पाने के लिए जरूरत मंद लोगों को दान करें

बाइबल कहती है, जो कंगालों पर अनुग्रह करता है वह मानो यहोवा परमेश्वर को उधार देता है. (नीतिवचन 19:17)

जब हम गरीबों और विधवाओं को देते हैं तो हम अपनी हैसियत से देते हैं. लेकिन परमेश्वर हमें देगा तो वह अपने अपरंपार भण्डार से देगा. वो किसी का उधार नहीं रखता.

दोस्तों आप किसी भी प्रकार की हिंदी बाइबिल स्टडी में हमें कमेन्ट करके बता सकते हैं Bible study in Hindi में कुछ प्रेक्टिकल विषयों को लाने जा रहे हैं जो पूरी रीती से hindi bible study online ही होगा जिसमें आप अपने सुझाव भी दे सकेंगे. तो कमेन्ट में अवश्य बताएं. धन्यवाद

Related Post

नए साल 2023 के लिए लक्ष्य कैसे बनाएं

पढ़ें क्रिसमस की अद्भुत कहानी

प्रभु यीशु मसीह के द्वारा सुनाई गई बेहतरीन कहानी

पवित्र आत्मा के फल क्या हैं

परमेश्वर का मित्र कौन बन सकता है

बाइबल के बेहतरीन 10 लघु संदेश

सुनिए बाइबल की कहानी पॉडकास्ट

मानवजाति के लिए परमेश्वर के 5 अद्भुत वायदे

1616136075751 कलीसिया का अर्थ, कलीसिया का उद्देश्य, कलीसिया का क्या उद्देश्य हैं, कलीसिया का क्या मतलब है, कलीसिया का संक्षिप्त इतिहास, कलीसिया के 6 नियम, कलीसिया कैसे रोपण करें, कलीसिया क्या है, कलीसिया में मेरा योगदान, कलीसिया स्थापना क्या है?, कलीसिया-कैसे-प्रारंभ-करें, नए स्थान में कलीसिया कैसे स्थापित करें, मसीही कलीसिया, हिंदी बाइबल स्टडी नोट्स
पास्टर राजेश बावरिया (एक प्रेरक मसीही प्रचारक और बाइबल शिक्षक हैं) rajeshkumarbavaria@gmail.com


Spread the Gospel

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top
Scroll to Top