दर्शन

दर्शन क्या है और इसे कैसे प्राप्त करें | What is Vision and How to achieve it

Spread the Gospel

जहां दर्शन  नहीं है, लोग नाश होते हैं (नीति वचन 29:18) जब हम दर्शन की बातें  कहते हैं, तो हम एक चित्र प्रदर्शन की बात नहीं कर रहे हैं। हमें यह पूरा करने का आग्रह करना चाहिए कि प्रभु ने हमें अपने जीवन काल में उसके लिए क्या करने का निर्देश दिया है।

एक दर्शन  क्या है? (परिभाषा ) | विशन किसे कहते हैं

दर्शन जीवन जीने का एक उद्देश्य है, एक ज्वलंतशील इच्छा है, दर्शन में उज्जवल भविष्य की दूर दृष्टि भी सम्मलित है. दर्शन का मतलब है एक स्पष्ट योजना जिसके लिए एक आंतरिक बोझ हो और जोश के साथ उसे पाने की एक जूनून हो.

दर्शन की परिभाषा : दर्शन परमेश्वर द्वारा दिया जाता है और  हमारे द्वारा प्राप्त किया जाता है ।

दर्शन
Image by Gerd Altmann from Pixabay दर्शन | Plan

दर्शन क्या करता है? | what Vision does

दर्शन एक जुनून पैदा करता है। कुछ अच्छा होने की उम्मीद पैदा करता है :- एक व्यक्ति जिसके पास दर्शन है वह किसी भी साधारण व्यक्ति से अलग होगा. उसके अंदर कुछ करने का जुनून होगा और वह चीजों को अलग दृष्टि से देखेगा. वह छोटी छोटी बातों में निराश नहीं हो जाएगा. उदाहरण – युसुफ का जीवन

दर्शन प्रेरणा देता है :- सबसे बड़ी प्रेरणा होती है, स्वप्रेरणा यदि हम स्वयं को प्रेरित नहीं हो सकते तो हमें दुनिया को कोई भी व्यक्ति हमें प्रेरित नहीं कर सकता या प्रेरणा नहीं दे सकता. और जब हमारे पास एक दर्शन होता है वह हमें प्रेरणा देता है.

दर्शन, सही दिशा में जाने के लिए एक गति देता है : जब तक किसी व्यक्ति के पास एक स्पष्ट दर्शन नहीं होता है वह व्यक्ति अपने अनुपयोगी कार्यों में व्यस्त रहता है और निराशा में जीवन व्यतीत करता है लेकीन जब उसके पास स्पष्ट दर्शन होता है उसके जीवन में एक तीव्रता और गति मिल जाती है.

दर्शन हमें एक उद्देश्य देता है : जिस प्रकार से बिना आशा के कोई नहीं जी सकता, उसी प्रकार से बिना उद्देश्य के जीवन भी नीरस हो जाता है अत: दर्शन ही है जो हमें जीने के लिए एक उद्देश्य देता हैं.

दर्शन  की आवश्यकता क्यों है? | Why vision is so important

हमारे जीवित रहने का सबसे प्रमुख कारण दर्शन है : चाहे छोटा हो या बड़ा लेकिन प्रत्येक व्यक्ति के जीवन में एक दर्शन होता है जिसे वो अपने जीवन में पूरा होते देखना चाहता है.

दर्शन  वह है जो हमें एक अविचलित एकाग्रता के साथ ले जाता है : दर्शन हमें भटकने और समय बर्बाद करने से रोकता है. जिसका दर्शन जितना साफ और स्पष्ट होता है वह व्यक्ति उतनी तीव्रता से उसे प्राप्त कर लेता है.

दर्शन हमें योजना बनाने में मदद करता है : जब हमें यह मालूम हो कि कहाँ जाना है, तो उस मंजिल तक पहुँचने के साधन भी खोज लिए जाते हैं.

एक बड़ी परियोजना को पूरा करने के लिए : बड़ी बातों को पूरा करने के लिए हमारे पास दर्शन होना अति आवश्यक है.

लोगों की गुणवत्ता में सुधार के लिए, और स्वर्ग के राज्य के निर्माण के लिए,

हमारे जीवन में आने वाली कई समस्याओं के बावजूद, दर्शन  ही वह है जो हमें सफल होने की ताकत देती है.

उचित योजना के साथ जो कुछ भी क्रियांवित किया जाता है, हम आसानी से अपने लक्ष्य को प्राप्त कर सकते हैं.

सही मायने में, अगर हमारे पास एक अच्छा और सही दर्शन है, तो जो लोग हमारे साथ हैं, वे भी हमारी तरह ही बदल जाएंगे।

स्पष्ट दर्शन से क्या मतलब है | Clear Vision, What does it means

स्पष्ट दर्शन होने से एक व्यक्ति को यह स्पष्ट रूप से पता होता है या यह ज्ञान होता है कि अब क्या किया जाना है और इसे कैसे किया जाना चाहिए.

यीशु मसीह का दर्शन | Vision of Jesus Christ

यीशु मसीह के पास एक स्पष्ट दर्शन था और वे उसे प्रारंभ से जानते थे उन्होंने 12 वर्ष की उम्र में ही अपने सांसारिक माता-पिता से कह दिया था. क्या तुम नहीं जानते कि मुझे मेरे पिता के घर में रहना अवश्य है. स्वर्ग राज्य की बढ़ोत्तरी का दर्शन.

उन्होंने अपने व्यक्तिगत दर्शन  को टीम के दर्शन  में बदल दिया…बारह चेलों के अंदर वही दर्शन स्पष्ट रूप से आ चुका था. स्वर्ग राज्य की बढ़ोत्तरी का दर्शन.

प्रभु यीशु ने उस दर्शन को पूरा करने के लिए अपने इस महान कार्य में सभी चेलों को सहभागी किया और बराबर अवसर प्रदान किया…जहाँ वह स्वयं जाने पर था उसने अपने चेलों को भेजा (लूका 10:1-5)

प्रभु यीशु ने कभी भी अपने दर्शन पूरा होने के विषय में और उस योजना को संचालित करने के विरुद्ध में कभी भी नकारात्मक विचार को नहीं आने दिया. वे पूर्ण रूप से जानते थे ऐसा होकर रहेगा. और ऐसी कोई बात नहीं थी जो उन्हें पीछे हटा सके.

यीशु का दर्शन  (मत्ती 9: 36-38; यूहन्ना 4:35) के अनुसार पापियों को बचाने के लिए था। उन्होंने सिर्फ साढ़े तीन साल सेवा का काम किया। फिर भी, उन्होंने सबसे अच्छी उपलब्धि हासिल की। इसका क्या कारण है?

  1. वे अच्छी तरह से जानते थे,  कि उन्हें क्या करना है और उसे कहाँ करना है.
  2. शुरू से ही वे एक टीम बनाने के इच्छुक थे.
  3. वह चाहते थे कि पूरी टीम उन्हें काम करते हुए देखे.
  4. उनकी देखरेख में टीम ने काम किया.
  5. उन्होंने टीम को स्वयं कार्य करने की अनुमति दी.
  6. उनकी हर बात और हर सांस हमेशा उनके दर्शन को पूरा करने के बारे में थी.
  7. उन्होंने अपने दर्शन को पूरा करने के लिए दिन-रात काम किया.

आपका दर्शन कैसा होना चाहिए? | How your vision must be

  1. यह परमेश्वर के राज्य को बढ़ाने के बारे में होना चाहिए.
  2. यह परमेश्वर की योजना और उसकी इच्छा को पूरा करने के बारे में होना चाहिए (मत्ती 2-20:1 लूका 20 लूका 4:14:21; प्रेरित 1:1)
  3. यह चर्च और लोगों के कल्याण के बारे में होना चाहिए
  4. यह नाश हो रही आत्माओं के उद्धार करने के बारे में होना चाहिए

परमेश्वर के दर्शन में तीन चरण:

  1. परमेश्वर दिखाएंगे कि क्या करने की जरूरत है
  2. परमेश्वर दिखाएंगे कि इसे कैसे करना है
  3. परमेश्वर दिखाएंगे कि यह कब करना है

इच्छा और दर्शन  में अंतर | Difference between Vision and wish

जिनके पास इच्छा है: | Those who have wishes

  1. वे ज्यादा बोलते हैं, काम कम करते हैं
  2. वे बाहरी संसाधनों से समर्थन और ताकत की उम्मीद करेंगे
  3. जब उनकी यात्रा कठिन होती जाती है तो वे बचने या अनदेखा करने की कोशिश करते हैं (उदाहरण: पुनरुत्थान से पहले शिष्यों ने)
  4. स्वार्थ की अधिकता रहेगी

जिनके पास दर्शन  है: | Those who have Vision

  1. वे कम बोलते हैं, अधिक काम करते हैं
  2. वे अपने आंतरिक और दृढ़ विश्वास से अपनी ताकत प्राप्त करते हैं
  3. यहां तक ​​कि जब वे समस्याओं का सामना करते हैं, तो वे इससे होकर गुजरेंगे (उदा.: यूसुफ)
  4. परमेश्वर की भलाई और दूसरे का कल्याण अत्यधिक होगा

आप कौन होंगेआप क्या कर रहे होंगेआप भविष्य में किस राज्य में (विकसित) होंगेआपके माध्यम से क्या परिवर्तन होंगे? – ये सभी पूरी तरह से आपके दर्शन पर निर्भर हैं

कैसे प्राप्त करें अपना दर्शन ? | How to Achieve our Vision

  1. प्रार्थना के माध्यम से
  2. परमेश्वर के वचन को समझने से
  3. पवित्र आत्मा के माध्यम से (प्रेरितों के काम 16: 6-10)
  4. बुद्धिमान परामर्श के माध्यम से (प्रेरितों के काम 15: 1-4)
  5. अगुओं / नेतृत्व टीम के माध्यम से (1 तिमोथी 5:17; तीतुस 1: 5)
  6. एक उत्तम अगुवे के माध्यम से जो एक आदर्श  है

दर्शन  को पूरा करने के लिए  5 सलाह | Five Advices

biblevani.com 5 min Hindi sermon notes, hindi sermon outllines, Vision का हिंदी अर्थ, यीशु मसीह का विशन, विजन का अर्थ हिंदी मे, विजन का मतलब हिंदी मे, विजन का शाब्दिक अर्थ, विज़न डेफिनिशन इन हिंदी, हिंदी बाइबल स्टडी, हिंदी बाइबिल प्रचार
Vision | दर्शन
  1. संक्षेप में लिखें; आपके दर्शन  में क्या है? कब? कैसे?
  2. लिख लें  (चार्ट चित्र)बनाएं  और इसे उन जगहों पर प्रदर्शित करें जहां आप अक्सर देखते हैं
  3. हर दिन इसे देखें और इसे बोलें (अंगीकार करें)
  4. स्पष्ट रूप से इसकी योजना बनाएं
  5. दृढ़ता के साथ कार्य करें (उस दर्शन को पूरा करने के लिए दिन में कम से कम एक काम करें)

इन्हें भी पढ़ें

परमेश्वर की भेंट पर तीन अद्भुत कहानियां

यीशु कौन है

कभी हिम्मत न हारें

आज का बाइबिल वचन

हिंदी सरमन आउटलाइन

पवित्र बाइबिल नया नियम का इतिहास


Spread the Gospel

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top