Hindi bible devotions

Top 10 Greatest Bible Devotions in Hindi | हमारी प्रतिदिन की रोटी

Spread the Gospel

हेलो दोस्तों आज हम देखने जा रहे हैं Top 10 Greatest Bible Devotions in Hindi | हमारी प्रतिदिन की रोटी. इन लघु बाइबल अध्ययन में हम पाएंगे बाइबल की कहानियां हिंदी में और हिंदी बाइबल स्टडी और हिंदी बाइबिल प्रचार जो हम प्रतिदिन के मनन में इस्तेमाल कर सकते हैं.

हमारी प्रतिदिन की रोटी | Daily Devotion In Hindi

devotions-in-hindi
Image by Jill Wellington from Pixabay | devotions-in-hindi

भेंट मनुष्य के लिये मार्ग खोल देती है, और उसे बड़े लोगों के साम्हने पहुंचाती है।”

नीतिवचन 18: 16

शीर्षक- भेंट मनुष्य के लिए मार्ग खोल देती है।

आज बहुत से लोग दान, भेंट और दसवांश के विषय में लोगों को गलत शिक्षाएं दे रहे हैं, कि एक विश्वासी को चर्च में दान, दसवांश और भेंट नहीं देना चाहिए जो बाइबल के अनुसार बिल्कुल गलत है प्रभु का वचन हमें सिखाता है कि हमें उत्तम से उत्तम भेंट प्रभु के चरणों के निकट लेकर आना है.

और कुडकुडा के नहीं परंतु हर्ष के साथ हमें परमेश्वर को भेंट चढ़ाने की आवश्यकता है क्योंकि वचन कहता है कि जब हम परमेश्वर को भेंट देते हैं तो हमारे लिए बहुत से मार्ग खुल जाता है क्योंकि वचन में यह भी लिखा है कि दिया करो तो तुम्हें भी दिया जाएगा बाइबिल में कई ऐसे लोग थे.

जिन्होंने प्रभु परमेश्वर के लिए बढ़-चढ़कर उत्तम से उत्तम भेट, दान और दसवांश दिए और उनके लिए अद्भुत तरीके से परमेश्वर ने मार्ग खोला और उनको आशीष दिया हम देखते हैं कि अब्राहम ने परमेश्वर को सर्वप्रथम दसवांश दिया.

याकूब ने परमेश्वर से प्रतिज्ञा किया कि जो कुछ तुम मुझे देगा उसका दसवांश मैं निश्चय तुझे दूंगा और उसका प्रतिफल परमेश्वर ने इनको दिया, इनको आशीष दिया ऊंचा उठाया, अकाल के समय में भी परमेश्वर ने इनके लिए प्रबंध किया। इसलिए हमे परमेश्वर को उत्तम से उत्तम भेंट दान और दसमांस देने की जरूरत है।

Short Powerful Devotions in hindi | डेली ब्रेड

क्योंकि उस में परमेश्वर की धार्मिकता विश्वास से और विश्वास के लिये प्रगट होती है; जैसा लिखा है, कि विश्वास से धर्मी जन जीवित रहेगा।।

रोमियो 1: 17

शीर्षक- परमेश्वर के दृष्टि में धर्मी बने।

अगर मनुष्य को जीवित रहना है तो उसे धर्मी बनना पड़ेगा. क्योंकि अधर्मी व्यक्ति को निश्चय परमेश्वर दंड देता है, और उसे देगा । बाइबल में जो अधर्मी लोग थे वे नाश हो गए परंतु नो धर्मी व्यक्ति थे।

परमेश्वर ने उसे और उसके परिवार को बचा लिया अर्थात धरती पर वे लोग जीवित रहे क्योंकि वचन में लिखा है कि परमेश्वर धर्मियों को बचा लेता है सो हमें चाहिए कि हम परमेश्वर की दृष्टि में एक धर्मी व्यक्ति बने अच्छे और भले कामों को करें।

धर्मी व्यक्ति विश्वास के द्वारा जीवित रहता है अगर हम चाहते हैं कि हम जीवित रहे और सदा काल के जीवन को प्राप्त करें तो हमें धर्मी बनना बड़ेगा, धर्मी का जीवन बिताना पड़ेगा, और धर्मी बनने के लिए विश्वास में मजबूत होना पड़ेगा या विश्वास के साथ परमेश्वर में आगे बड़ना पड़ेगा।

इसलिए जरूरी है आज से आप विश्वास के साथ परमेश्वर मैं आगे बढ़ते रहिए।

Morning Devotion for today | बाइबल हिंदी में विषयों उपदेश

चाहे मैं घोर अन्धकार से भरी हुई तराई में होकर चलूं, तौभी हानि से न डरूंगा।

भजन संहिता 23: 4

शीर्षक- कोई भी हानि से न डरें।

शैतान मनुष्य के जीवन में कई प्रकार की परीक्षाओं विपत्तियों और समस्याओं को लेकर आता है और वह लोगों को कई प्रकार से हानि पहुंचाना चाहता है. वह उनसे उनका सब कुछ छीन लेना चाहता है जो परमेश्वर उनको आशीष के रूप में दिया है।

हम अय्यूब के जीवन से यह सीखते हैं कि शैतान ने उसका सब कुछ बर्बाद कर दिया खत्म कर दिया अय्यूब को कई प्रकार से हानि उठाना पड़ा लेकिन वह डरा नहीं , वह पीछे नहीं हटा और ना ही किसी भी प्रकार से वह अपने शब्दों के द्वारा परमेश्वर के विरोध में पाप किया और परमेश्वर ने एक दिन उसे बहुतायत से आशीष दिया।

भजन कार का लिखनेवाला यह कहता है कि मैं घोर अंधकार से भरी हुई तराई से होकर चलूं तो भी हानि से ना डरूंगा क्योंकि तू मेरे साथ रहता है परमेश्वर आपके साथ है आप किसी भी प्रकार की हानि से ना डरे शत्रु ने जो कुछ भी आप से छीना है उसे उसको एक दिन सब कुछ लौटना पड़ेगा।

किसी भी वस्तु से या किसी भी बातों और कार्यों से जो शैतान दे द्वारा होगा उससे आपको कुछ भी हानि नहीं होगा । क्योंकि परमेश्वर सदा सर्वदा आपके साथ है.

hindi bible study and devotion
Image by Jill Wellington from Pixabay

Short Devotion for Today | हिंदी बाइबल स्टडी

“उस ने उन से कहा, चौकस रहो, और हर प्रकार के लोभ से अपने आप को बचाए रखो: क्योंकि किसी का जीवन उस की संपत्ति की बहुतायत से नहीं होता।”

लूका 12: 15

शीर्षक- हर प्रकार के लोभ से अपने आप को बचाकर रखो।

प्रभु यीशु मसीह ने अपने चेलों को कहा कि तुम सावधान रहो चौकस रहो और अपने आप को हर प्रकार के प्रलोभन से मतलब लालच से बचा कर रखो.

परमेश्वर ने जब 10 आज्ञा इजराइली लोगों को दिया तो उसमें एक आज्ञा यह भी था कि तू लालच ना करना आज हम देखते हैं शैतान लोगों के जीवन में कई प्रकार के प्रलोभन और लालच लेकर आ रहा है और लोग उसमें फसते चले जा रहे हैं और यही कारण हैं कि मनुष्य परमेश्वर से दूर होता चला जा रहा है.

पुराने नियम में हम गहेजी के विषय में पढ़ते हैं कि उसके स्वामी एलीशा भविष्यवक्ता ने नामान कोढ़ी से कुछ भी नहीं लिया। परंतु गहेजी के मन में लालच आ गया और वह प्रलोभन में फस गया नामान कोढ़ी का पीछा किया और उससे चांदी और वस्त्र लेकर वापस आया…

जब एलीशा ने उससे पूछा तो वह उससे झूठ बोल दिया कि मैं कहीं नहीं गया था और इसी कारण से नामान का कोढ़ उसे और उसके वंश को सदा के लिए लग गया इसलिए कहते हैं न लालच बुरी बला है। जो कोई इस में फंसा उसका सब कुछ बर्बाद हो गया इसलिए हमें हर प्रकार के प्रलोभन और लालच से सावधान रहना चाहिए ।

Free daily Devotion in Hindi | Hindi Bible Message

जिस उपवास से मैं प्रसन्न होता हूं अर्थात् जिस में मनुष्य स्वयं को दीन करे, क्या तुम इस प्रकार करते हो?

यशायाह 58: 5

शीर्षक- उपवास से परमेश्वर प्रसन्न होता है।

परमेश्वर के वचन में लिखा है जिस उपवास से मैं प्रसन्न होता हूं। इसका मतलब यह है कि परमेश्वर उपवास से प्रसन्न होता है जब मनुष्य अपने आप को नम्र और दिन करके अपने बुरे चाल चलन से फिर कर पवित्रता के साथ परमेश्वर की उपस्थिति में आता है उपवास और प्रार्थना करता है तब परमेश्वर उससे प्रसन्न होता है.

लेकिन आज बहुत से लोगों का जीवन अहंकार और घमंड में है वे किस प्रकार से परमेश्वर के पास आते हैं उनको इस बात का अंदाजा भी नहीं है दो लोग मंदिर में प्रार्थना करने के लिए गए थे।

एक फरीसी और दूसरा चुंगी लेने वाला व्यक्ति था पर इसी घमंड और अहंकार के साथ परमेश्वर के सामने खड़ा होकर अपने मन में यों प्रार्थना करने लगा, कि हे परमेश्वर, मैं तेरा धन्यवाद करता हूं, कि मैं और मनुष्यों की नाई अन्धेर करनेवाला, अन्यायी और व्यभिचारी नहीं, और न इस चुंगी लेनेवाले के समान हूं।

मैं सप्ताह में दो बार उपवास करता हूं; मैं अपनी सब कमाई का दसवां अंश भी देता हूं। परन्तु चुंगी लेनेवाले ने दूर खड़े होकर, स्वर्ग की ओर आंख उठाना भी न चाहा, बरन अपनी छाती पीट- पीटकर कहा; हे परमेश्वर मुझ पापी पर दया कर। और प्रभु ने इसकी प्रार्थना को सुन लिया।

जब हम अपने आपको नम्र और दिन करते हैं और प्रभु की उपस्थिति में उपवास और प्रार्थना के साथ आते है तो निश्चय परमेश्वर उससे प्रसन्न होता है और उसका उत्तर हमें जरूर देता है सो हम इस प्रकार से उपवास और प्रार्थना करें ताकि परमेश्वर हमारे उपवास और प्रार्थना से प्रसन्न हो सके।

सुने बाइबल संदेश

Simple daily Devotions in hindi | परमेश्वर के वचन का अध्ययन

मैं अच्छी कुश्ती लड़ चुका हूं मैं ने अपनी दौड़ पूरी कर ली है, मैं ने विश्वास की रखवाली की है।

2 तीमुथियुस 4: 7

शीर्षक- अपने विश्वास की रखवाली करें।

पौलुस प्रभु यीशु मसीह का सच्चा सेवक इस बात को कहता है कि मैंने विश्वास की रखवाली की है क्या आप भी अपने जीवन के अंतिम पड़ाव में अंतिम समय में पहुंचकर इस बात को कहने पाएंगे कि मैंने अपने विश्वास की रखवाली की है मनुष्य के जीवन में संदेह बहुत जल्दी आ जाता है.

क्योंकि शैतान लोगों को भ्रमित करता है लोगों के अंदर शक पैदा करता है और उनको उनके विश्वास से या अति पवित्र विश्वास से भटका देता है हम पतरस के जीवन में विश्वास को देखते हैं जब तक उसके जीवन में विश्वास था तब tj वह पानी पर चलता रहा लेकिन जैसे ही उसके जीवन में संदेह आया वह डूबने लगा।

मनुष्य जब संदेह करता है तो उसका जीवन खतरे के निशान पर पहुंच जाता है वह डूबने लगता है और डूबने के बाद उसका अस्तित्व उसका नाम, उसका पहचान सब कुछ समाप्त हो जाता है इसलिए मनुष्य को चाहिए कि वह हर परिस्थितियों में मुसीबतों में परीक्षाओं में स्थिर रहे विश्वास में डगमगाए ना और अपने विश्वास की रखवाली करें विश्वास में बने रहें, अड़े रहें, खड़े रहें और विश्वास के साथ परमेश्वर के साथ चलते रहें. जय मसीह की

compressjpgalone 1869997 640 daily devotion in hindi, free daily devotion in hindi, hindi bible message, inspirational devotions for meeting in hindi, short daily devotion for today, short devotions for meetings, Short inspirational devotions in hindi, short powerful devotions in hindi, simple daily devotions in hindi, डेली ब्रेड, बाइबल की आत्मिक शिक्षा, हमारी प्रतिदिन की रोटी, हिंदी बाइबल स्टडी
Image by Jill Wellington from Pixabay

short Daily Devotion for today | परमेश्वर की बुलाहट के प्रति हमारा उत्तर

यीशु ने कहा, मेरे पीछे चले आओ, तो मैं तुम को मनुष्यों के पकड़नेवाले बनाऊंगा।

मत्ती 4: 19

शीर्षक- अपनी बुलाहट को पहचानो।

यीशु मसीह में अपनी बुलाहट को पहचानो कि उसने तुम्हें क्यों बुलाया है? किस लिए बुलाया है ? और तुम्हारे द्वारा वह क्या करवाना चाहता है? उसको जानना बहुत जरूरी है। कुछ लोग सोचते हैं कि प्रभु ने मुझे चर्च भवन बनाने के लिए बुलाया है.

कुछ लोग कहते हैं कि मुझे मीडिया में काम करने के लिए बुलाया है कुछ लोग कहते हैं मुझे कई प्रकार के राजनीति के कामों को करने के लिए बुलाया गया है कुछ लोग कहते हैं मुझे प्रचार करने के लिए,भविष्यवाणी करने के लिए, बीमारों को चंगा करने के लिए बुलाया गया है।

तो कुछ लोग कहते हैं की मुझे मनुष्य को पकड़ने के लिए बुलाया गया है यानी कि आत्माओं को जीतने के लिए। लेकिन बहुत से लोगों के पास सही बुलाहट ना होने के कारण से या अपने बुलाहट को ना पहचाने के कारण से वे उन कामों को कर पाने में असमर्थ हो जाते हैं जिसके लिए प्रभु यीशु मसीह ने उनको बुलाया है.

इसलिए हम सभी के लिए यह महत्वपूर्ण है कि हम अपने बुलाहट को पहचाने और उसके अनुसार हम कार्य करें । जय मसीह की

Short Devotions for meetings | बाइबल की आत्मिक शिक्षा

अपनी जीभ को बुराई से रोक रख, और अपने मुंह की चौकसी कर कि उस से छल की बात न निकले।

भजन संहिता 34: 13

शीर्षक- अपने मुंह की चौकसी करें।

हमें अपने मुंह की चौकसी करने की आवश्यकता है ताकि उससे छल की बात,कपट की बातें, धोखे की बातें और व्यर्थ की बातें ना निकले क्योंकि मनुष्य अपने बातों के द्वारा दोषी और निर्दोष ठहराया जाएगा जो कुछ मनुष्य इस पृथ्वी पर रहकर बोलता है उन सब बातों का न्याय एक दिन जरूर होगा।

मनुष्य के मुंह के शब्दों में मृत्यु और जीवन है हमारे मुंह के शब्दों में समर्थ है इसलिए हमें सोच समझकर बोलने की आवश्यकता है हम नकारात्मक बातों को अंगीकार ना करें परंतु स्वर्गीय बातों को अंगीकार करें । हमेशा अपने लिए दूसरों के लिए अच्छे शब्दों का प्रयोग करे, या उनके विषय में अच्छी बात बोला करें।

बाइबल में हम इजराइली लोगों के विषय में पढ़ते हैं उन्होंने कहा कि भला हो कि हम सब जंगल में मर जाते और वे सब के सब जंगल में ढेर हो गए क्योंकि उन्होंने अपनी मुंह की चौकसी नहीं कि जो उनके मन में आया वे कह दिए और वैसा ही उनके जीवन में हो गया इसलिए हमें ध्यान देने की आवश्यकता है कुछ भी हम ना बोलें और हमेशा सकारात्मक रहे। जय मसीह की

Inspirational devotions for meetings in Hindi

क्योंकि ऐसा करने से तेरी आयु बढ़ेगी, और तू अधिक कुशल से रहेगा।

नीतिवचन 3: 2

शीर्षक- शांतिपूर्ण और सफल जीवन का रहस्य।

शांतिपूर्ण और सफल जीवन का रहस्य क्या है ? आज हर एक इंसान जानना चाहता है। वह शांतिपूर्ण और सफल जीवन की तलाश में रहता है । जब हम प्रभु के वचन में पढ़ते हैं तो प्रभु का वचन कहता है मेरी शिक्षा को ना भूलना

और अपने हृदय में मेरी आज्ञाओं को रखे रहना और जब मनुष्य ऐसा करेगा तो उसकी आयु बढ़ेगी और वह अधिक कुशल से रहेगा। प्रभु यीशु मसीह ने जो शिक्षा और जो आज्ञाए हमें दिया है यदि मनुष्य उसे अपने जीवन में सही तरीके से या ईमानदारी के साथ पालन करता है

उसके अनुसार अपने जीवन का निर्वाह करता है तो निश्चय उसका जीवन शांतिपूर्ण और सफल जीवन रहेगा । बाइबिल में कई ऐसे प्रभु के लोगो का उदाहरण है जिन्होंने परमेश्वर की शिक्षाओं और आज्ञाओं का पालन किया उसके अनुसार वे जीवन बिताएं और उनका जीवन निश्चय शांतिपूर्ण और सफल जीवन रहा।

ऐसा जीवन प्रभु आपको भी देगा बस आप प्रभु की शिक्षाओं और आज्ञाओं का पालन अपने जीवन के अंतिम सांस तक करते रहें । जय मसीह की

compressjpghands 3457502 640 daily devotion in hindi, free daily devotion in hindi, hindi bible message, inspirational devotions for meeting in hindi, short daily devotion for today, short devotions for meetings, Short inspirational devotions in hindi, short powerful devotions in hindi, simple daily devotions in hindi, डेली ब्रेड, बाइबल की आत्मिक शिक्षा, हमारी प्रतिदिन की रोटी, हिंदी बाइबल स्टडी
Image by congerdesign from Pixabay

Short inspirational devotions in Hindi

सब से अधिक अपने मन की रक्षा कर; क्योंकि जीवन का मूल श्रोत वही है।

नीतिवचन 4: 23

शीर्षक- सबसे अधिक अपने मन की रक्षा करें।

राजा सुलेमान जो बहुत बुद्धिमान,समझदार,ज्ञानवान प्रसिद्ध और ख्याति प्राप्त किया हुआ राजा था वह इस बात को कहता है की सबसे अधिक अपने मन की रक्षा कर। क्यों ?

क्योंकि उसका मन बह गया था उसने वो काम किया जो परमेश्वर की दृष्टि में गलत था वह व्यभिचार में फस गया क्योंकि उसने अपनी मन की रक्षा नहीं की । मन सब वस्तुओं से धोखा देने वाला है मनुष्य के मन में जो कुछ उत्पन्न होता है वह बुरा ही होता है इसलिए जरूरी है कि हम अपने मन की रक्षा करें क्योंकि शैतान लोगों के मन में वार करता है वह उनके मन को कच्चा और व्याकुल करता है.

वह उनके मन में कई प्रकार के बुरे विचार और लालच को लेकर आता है और लोगों को परमेश्वर की उपस्थिति से पवित्रता से दूर कर देता है । इसलिए जरूरी है कि हम अपने मन की रक्षा करें क्योंकि जीवन का मूल स्रोत वही है अगर आपका मन ठीक है तो आपके जीवन में सब कुछ ठीक रहेगा ।जय मसीह की

विश्वास करते हैं दोस्तों आपके ये बाइबल Devotions in Hindi पसंद आये होंगे आप अपने कमेन्ट में हमें अवश्य बताएं आप क्या पढना चाहते हैं.

इन्हें भी पढ़े

उपवास प्रार्थना कैसे करें ?

बाइबल की 20 बेहतरीन कहानियां

जीवन में दुःख और सुख दोनों जरूरी हैं

हिंदी सरमन आउटलाइन

यीशु की प्रार्थना

पवित्र बाइबिल नया नियम का इतिहास

31 शोर्ट पावरफुल सरमन

यीशु कौन है

कभी हिम्मत न हारें

हम कैसे विश्वास को बढ़ा सकते हैं

प्रार्थना के 20 फायदे

प्रतिदिन बाइबल पढ़ने के 25 फायदे

प्रकाशितवाक्य की शिक्षा

https://biblevani.com/

पास्टर राजेश बावरिया (एक प्रेरक मसीही प्रचारक और बाइबल शिक्षक हैं)

[email protected]


Spread the Gospel

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top